अस्थाई कर्मचारी के मौत के बाद फिर एक अस्पताल में भर्ती

ताजा रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को एकबार भी से विवि परिसर में उस वक्त अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया। जिसे अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे एक और कर्मचारी की हालत अचानक बिगड़ गई। जिसके बाद उसे फौरन मधेपुरा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसका इलाज देर शाम तक जारी था। वहीं दूसरी तरफ पिछले दस दिनों से विवि परिसर में बीएनएमयू बचाओं मुहीम के तहत अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर बैठे छात्र नेताओं की भी हालत गंभीर होती जा रही है। मेडिकल टीम के द्वारा रोजाना दोनों छात्र नेता को लगातार सलाइन चढ़ाया जा रहा है लेकिन इन सब के बावजुद बीएनएमयू प्रशासन के बिगड़ते हालात का समाधान निकालने के बजाय मुख्यालय में नहीं रहना विवि प्रशासन की हिटलरशाही को दर्शाता है।

गुप्त सुत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बीएनएमयू के वर्ततान कुलपति की पहुंच काफी हाई लेवल तक है। शायद यही कारण है कि इतना कुछ होने के बाद भी विवि प्रशासन चैन की नींद सो रही हैं। एक उच्चस्तरीय शिक्षण संस्थान के जिम्मेदारों की जो जिम्मेदारी होती है उस जिम्मेदारी को पूरी इमानदारी से निभाने में वर्तमान विवि प्रशासन का रोल काफी चिंताजनक है। हालात का समाना करने के बजाय किसी ना किसी कारण से कुलपति का मुख्यालय लम्बे समय तक गायब होना कहीं से भी उचित नहीं है और इन सब के बीच बीएनएमयू के हजारों छात्रों का भविष्य अंधकार में जा रहा है इसकी चिंता ना तो कुलपति सहित विवि के अन्य पदाधिकरियों को है और ना ही यहां के जनप्रतिनिधियों को।

To read full report visit Kositimes website at . http://www.kositimes.com/25546-madhepura-bnmu-ka-jimmevar-kaun.html


Leave a Reply